Updated : Jan 12, 2020 in Yojana

उत्तर प्रदेश अन्नकूट योजना | पूरी जानकारी | कैसे मिलेगा लाभ

उत्तर प्रदेश अन्नकूट योजना | Uttar Pradesh Annkoot Yojana 

 

उत्तर प्रदेश सरकार दवारा बच्चों को पोषण युक्त भोज्य पदार्थों के प्रति जागरूक करने और सहभागी वनाने के लिए अन्नकूट योजना को शुरु किया गया है। इस योजना के तहत छात्र-छात्राओं में विषयों और पोषक तत्वों के प्रति समझ विकसित करने के लिए अलग-अलग दिनों में कार्यक्रम चलाए जाएगें। विषयों की वृहद जानकारी के लिए प्रार्थना सभा के बाद वाद-विवाद प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाएगी। इसके अलावा महापुरुषों, ऐतिहासिक स्थलों, देश की प्राचीन संस्कृति, पर्यावरण और जल संरक्षण, स्वच्छता पर बच्चों को जानकारी दी जाएगी। बच्चों को होमवर्क में चित्रकला और मॉडल तैयार करने के कार्य दिए जाएंगे, ताकि कला और विज्ञान के प्रति उनकी रुचि बढ़ सके।

हरी मौसमी सब्जी, फल, अनाज, दाल, गुण आदि पोषक तत्वों पर भी जानकारी वच्चों को मिलेगी। छात्र-छात्राओं को इस बात के लिए प्रेरित किया जाएगा कि उक्त दिनों में वह एक भोज्य पदार्थ लेकर स्कूल आएं और अपनी भागीदारी दें। इससे छात्र-छात्राओं में पोषण के संबंध में न सिर्फ जानकारी मिलेगी, बल्कि सामुदायिक सहभागिता भी बढ़ेगी। अन्नकूट योजना के तहत हर तरह की गतिविधियां सभी स्कूलों में प्रत्येक सप्ताह दो दिन दस मिनट तक संचालित होगी। इस योजना से सभी विद्यालयों में पोषण युक्त भोज्य पदार्थ हर रोज तैयार होगें और बच्चों का सामान्य ज्ञान भी बढेगा और बच्चों के बौद्धिक क्षमता का विकास भी होगा, जिससे उनकी सहभागिता से मिड-डे-मील योजना और प्रभावी बनेगी। 

उद्देश्य | An Objective

उत्तर प्रदेश अन्नकूट योजना का मुख्य उद्देश्य बच्चों को पोषण युक्त भोज्य पदार्थों के प्रति जागरूक कर सहभागी वनाना है। 

लाभ | Benefits

  • अन्नकूट योजना का लाभ उत्तर प्रदेश के स्थायी बच्चों को प्राप्त होगा।
  • इस योजना के तहत बच्चों को पोषण युक्त भोज्य पदार्थों के प्रति जागरूक किया जाएगा।
  • पोषक तत्वों के प्रति समझ को विकसित करने के लिए अलग-अलग दिनों में कार्यक्रम भी चलाए जाएगें।
  • हरी मौसमी सब्जी, फल, अनाज, दाल, गुण आदि की जानकारी बच्चों को दी जाएगी।
  • वाद-विवाद प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाएगी।
  • इस योजना से बच्चों का सामान्य ज्ञान बढेगा।
  • कला और विज्ञान के प्रति भी बच्चों की रुचि वढेगी।
  • इस योजना से बच्चों में सामुदायिक सहभागिता भी बढ़ेगी।

आशा करता हूं आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेंट और लाइक जरुर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!