Updated : Nov 09, 2019 in Yojana

वैश्विक निवेशक मीट धर्मशाला | पूरी जानकारी | कैसे मिलेगा लाभ

वैश्विक निवेशक मीट धर्मशाला | Global Investors Meet Dharamshala

वैश्विक निवेशक मीट का आयोजन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी दवारा हिमाचल प्रदेश में किया गया, जो कि प्रदेश के लिए वडी गर्व की वात है। वैश्विक निवेशक मीट 7 नवंबर से शुरू की गई है। इससे विदेशी निवेश को आकर्षित करने और राज्य में रोजगार के अवसर पैदा किए जाएगें। इस मेगा इवेंट में 209 विदेशी प्रतिनिधियों और स्थानीय उद्यमियों को शामिल किया गया। जिसमें भारत और दुनिया भर के प्रतिभागियों ने भाग लिया। इससे कृषि-व्यवसाय, खाद्य प्रसंस्करण और कटाई के बाद की तकनीक, विनिर्माण और फार्मास्यूटिकल्स, पर्यटन, आतिथ्य और नागरिक उड्डयन, जल और नवीकरणीय ऊर्जा और अन्य क्षेत्रों में निवेश को आकर्षित किया जाएगा, ताकि प्रदेश की अर्थव्यवस्था को मजबूती मिले।

इसके अलावा मध्यम वर्ग के लाभ के लिए आवासीय परियोजनाओं को फिर से शुरू किया जाएगा, ताकि 4.58 लाख परिवार अब अपने घर प्राप्त कर सकें, जिसमें उन्होंने निवेश किया है। नई घरेलू कंपनियों के लिए कॉर्पोरेट टैक्स को 15% तक भी घटा दिया है। प्रधान मंत्री जी के अनुसार बुनियादी ढांचे के विकास के लिए 100 लाख करोड़ रुपये से अधिक के निवेश के फैसले से हिमाचल प्रदेश राज्य को भी लाभ दिया जाएगा। जिससे प्रदेश प्रगति की और अग्रसर होगा।  

महत्वपूर्ण डाउनलोड | Important Download

महत्वपूर्ण तिथियाँ Important Dates

  • 07 – 08 नवंबर 2019

उद्देश्य | An Objective

वैश्विक निवेशक मीट का मुख्य उद्देश्य कृषि-व्यवसाय, खाद्य प्रसंस्करण और कटाई के बाद की तकनीक, विनिर्माण और फार्मास्यूटिकल्स, पर्यटन, आतिथ्य और नागरिक उड्डयन, जल और नवीकरणीय ऊर्जा और अन्य क्षेत्रों में निवेश को आकर्षित कर, रोजगार के अवसर को प्रदान करना है। इसके अलावा हर साल प्रत्येक पैरामीटर में सुधार किया जाएगा, जिससे रैंकिंग में भी सुधार होगा।

लाभ | Benefits

  • वैश्विक निवेशक मीट हिमाचल प्रदेश में स्थानिय और विदेशी लोगों ने भाग लिया।
  • इससे प्रदेश को हर प्रकार की सुविधाएं प्राप्त होगी।
  • इससे कृषि व्यवसाय, खाद्य प्रसंस्करण और पोस्ट हार्वेस्ट प्रौद्योगिकी, विनिर्माण और फार्मास्यूटिकल्स, पर्यटन, आतिथ्य और नागरिक उड्डयन, जल और नवीकरणीय ऊर्जा, कल्याण, स्वास्थ्य देखभाल और आयुष, आवास, शहरी विकास, परिवहन, इन्फ्रास्ट्रक्चर और लॉजिस्टिक्स के क्षेत्रों में निवेश को आकर्षित करने के लिए, सूचना प्रौद्योगिकी, आईटीईएस और इलेक्ट्रॉनिक्स, शिक्षा और कौशल विकास होगा।
  • राज्य के प्रमुखों, कॉरपोरेट जगत के नेताओं, वरिष्ठ नीति निर्माताओं, विकास एजेंसियों, अंतरराष्ट्रीय ख्याति के संस्थानों के प्रमुखों और दुनिया भर के अकादमिक देशों के प्रमुखों को राज्य में सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए एक मंच प्रदान किया जाएगा।
  • राज्य के आर्थिक विकास और जीडीपी को बढ़ावा मिलेगा।

  • रोजगार के अवसर पैदा करना और उद्यमिता को प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • इकोसिस्टम को विकसित करने के लिए विभिन्न प्रकार की आर्थिक गतिविधियों में उत्कृष्टता के लिए अपने हितधारकों का समर्थन प्राप्त होगा।
  • इससे ‘मेक इन हिमाचल’ को बढ़ावा मिलेगा।
  • हिमाचल प्रदेश के MSME क्षेत्र को मजबूत और सशक्त बनाया जाएगा।
  • निर्यात में राज्य की हिस्सेदारी को बढ़ावा दिया जाएगा।

Video – 

आशा करता हूं आपको इस आर्टीकल के दवारा सारी जानकारी मिल गई होगी। आर्टीकल अच्छा लगे तो कोमेंट और लाइक जरुर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!